शुक्रवार, 30 सितंबर 2011

प्रबंधन के कुछ गैर-पारिभाषिक एवं गैर प्रचलित सूत्र !!


मैं भूत बोल रहा हूँ..........!!

प्रबंधन के कुछ गैर-पारिभाषिक एवं गैर प्रचलित सूत्र !!

प्रिय भाई ,
              तुम्हें मेरा अत्यधिक प्रेम, 
               आज तुमसे कुछ बातें शेयर करने को दिल चाह रहा है,किन्तु आमने-सामने देर तक कुछ कहा जाना और सामने वाले का उसका सूना जाना अब बड़ा दुरूह हो चुका है,इसलिए यह पत्र तुम्हें लिख रहा हूँ कि तुम बड़े इत्मीनान से समय लेकर पढ़ सको,और जब अवसर मिले इसे पढ़कर प्रबंधन के कुछ गुर सीखो और मज़ा यह है कि प्रबंधन के विषय में इस तरह की बातें प्रबंधन की किसी पुस्तक में नहीं बतायी जाती ,मगर मुझे आशा है कि आने वाले दिनों में मेरे इस पत्र को प्रबंधन की पुस्तकों में एक पाठ की तरह शामिल कर लिया जाएगा .
                भाई मेरे,(1) हम जैसे व्यापारी लोग अपने व्यापार के लिए जिस तरह के लोगों से काम लेते हैं,वो ज्यादातर बेहद अकुशल,अशिक्षित और बेहद गंदगी वाले माहौल से आने वाले विवश और गरीब लोग होते हैं,जिन्हें यह पता नहीं होता कि कर्मठता किस चिड़िया का नाम है और किस तरह का आचरण करके आप मालिक की नज़र में एक "अच्छे मजदूर"बन सकते हो,हाँ यह जरूर है कि अक्सर वे ईमानदार अवश्य होते हैं,जिसके कारण वे अपने मालिक के विश्वासपात्र बन जाते हैं (बेशक यह विश्वास कभी भी इस स्तर पर नहीं पहुँच पाता कि मालिक अपना गल्ला उनके हवाले करके पेशाब करने भी जाए,और मैं इसका अपवादस्वरूप हूँ.
                इसलिए भाई मेरे इन्हें काम सिखाना और इनसे  काम लेना कुछ समय तक बहुत कठिन होता है.इनमें कुछ लोग बेहद समझदार भी होते हैं बाकी ज्यादातर तो गैर-समझदार ही,मगर इसका मतलब यह नहीं कि वो मूर्ख ही हों,जैसा कि मालिक लोग समझते हैं ! किन्तु धरती का ऐसा कोई हिस्सा नहीं जहां कि गालियों,लताड़ों,दुत्कारों द्वारा किसी को कोई काम समझाया या सिखाया जा सकता होओ,जहां भी ऐसा होता है,वे मानवीयता की दृष्टि से बेहद शर्मनाक जगहें होती हैं,जिनका मैं कतई कायल नहीं.आपके पास किसी भी गैर-कुशल मजदूर-स्टाफ का रहना आपके एक टीचर होने की डिमांड करता है,ये आप ही हैं,जिसने एक गैर कुशल स्टाफ या मजदूर को दो वजहों से चुना है,
                  एक,या तो आप अपने काम के एवज में उसे यथोचित- उचित या कहूँ कि ज्यादा मेहनताना दे पाने में सक्षम नहीं है,या फिर अपनी कमाई के लालच में उसका शोषण करना चाहते हैं,मगर दोनों ही हालातों में उस मजदूर का चुनाव सिर्फ-व्-सिर्फ आपका और आपका है और इसके लिए आप उस गैर-कुशल अकुशल,अशिक्षित व्यक्ति को ज़रा-सा भी दोष नहीं दे सकते,जिसे आपने अपनी मर्जी,विवशता या लालच के कारण चुना है,इसलिए यह आपका प्रथम एवं अनिवार्य कर्तव्य है कि अब आप उसकी समुचित टीचिंग करें,ना कि रैंगिंग .
                दूसरा,समूची धरती पर मजदूरों या स्टाफों के रूप में छोटे-छोटे बच्चों का उपयोग होता है,जो मेहनत की दृष्टि से उचित,बल्कि अत्यधिक(उनकी क्षमता से काफी अधिक) और मेहनताने की दृष्टि से कमतर तथा प्रताड़ना की दृष्टि से लाज़वाब जान पड़ते हैं,जिन्हें पशुओं से भी बदतर खटाकर बात या लात से प्रताड़ित किया जाता है!अब आप ज़रा यह सोच कर तो देखो कि जिस तरह आप उस बच्चे,जो मजबूरी के मारे अपना घर छोड़कर खेलने-खाने की उम्र में आपके पास काम करने आता है तो उसकी आपसे यह अपेक्षा तो कतई नहीं रहती होगी कि आप उससे पशुओं जैसा व्यवहार करोगे,बल्कि वह जो बच्चा जो किन्हीं भी कारणों से आपके पास है,उसकी अपेक्षा और ईच्छा आपसे अपनी मेहनत के बदले प्यार और सम्मान पाने की होती होगी,जैसा कि आप खुद अपने लिए चाहते हो अपने खुद के काम के एवज में !तो आप यह तो सोचो कि जो आप अपने लिए चाहते हो उससे किसी दूसरे को क्यों वंचित करना चाहते हो,या कर ही डालते हो,महज इसलिए कि आप शिक्षित हो हुनरमंद हो ??तो आप अपना हुनर उसे सिखाओ ना,अपने हुनर या ज्ञान को खुद तक सिमित रखना दुनिया का सबसे बड़ा अहंकार और स्वार्थ है !(इस नाते मैं ये भी मानता हूँ कि व्यापार में जिसे मोनोपोली कहते हैं,वह भी इसी श्रेणी का अहंकार,स्वार्थ और मानवता को शर्मसार करने वाला है,जिसे यह "सभ्य" मनुष्य अपने साथ पता नहीं कैसे चिपटाए हुए है और करते हुए भी वह खुद को सभ्य कहता है !
                बगैर उचित टीचिंग के दुनिया अच्छी नहीं बनायी जा सकती और इसके लिए यह आवश्यक है कि आप किसी भी किस्म के दुराग्रह और कुसंस्कार से दूर हों !अगर आप किसी भी तरह से अपने लिए एक अच्छा समाज चाहते हैं तो आपको हर हालत में खुद को बेहतर,और बेहतर,और बेहतर बनाना ही होगा !आप खुद विगलित रहते हुए कुछ भी अच्छा चाहने का हक़ तक नहीं रखते !
               तीसरा,धरती पर मालिक की जात एकमात्र ऐसी जात है,जो खुद को सदैव बिलकुल सही समझती है,अपने ज्ञान को सही समझती है,मगर अपने ज्ञान को आप सही समझो,यहाँ तक तो ठीक है,मगर दूसरे के ज्ञान को कमतर या तुच्छ समझना यह कहाँ की शरीफी है ?और इसी कारण मैंने देखा है कि कई बार स्टाफ के उचित परामर्श को मालिक महज इसीलिए नहीं मानता कि वह परामर्श एक स्टाफ का है !कई बार स्टाफ का प्रैक्टिकल अप्रोच मालिक की अपेक्षा ज्यादा समीचीन होता है,मगर मालिक उसकी बात ठीक से सुनता तक नहीं अपने मालिक होने के अहंकार या ठसके के कारण....मगर बात यहीं तक जा रूकती तब भी गनीमत थी,मगर होता तो यहाँ तक है कि अपनी उस थेथरई के कारण पनपी समस्याओं को भी नहीं समझते,या समझने का प्रयास तक नहीं करते,दूसरे शब्दों में अपनी गलतियों को ना मानकर भविष्य की बेहतरी के लिए कोई सबक नहीं सीखते !और इस तरह मालिक और-नौकर का रिश्ता बेहद कटुतम होता चला जाता है और मैं चाहता हूँ मेरे भाई,तुम ऐसे कतई ना बनो !!
                 अपने द्वारा किया गया बेहतर से बेहतर काम भी अपने द्वारा की गयी स्वभाववश या अनजानेवश गलतियों के कारण नकारा हो जाता है !मालिक कम-से-कम यह तो सोचे कि हो सकता है कि बेशक खुद वही सही हो,मगर अपने सही होने के कारण उसे किसी को प्रताड़ित करने का हक़ तो नहीं मिल जाता ना !उसे अपने सही होने के तर्क को अपने स्टाफ की भाषा में ही अपने स्टाफ को समझाना होगा,ना फटकारपूर्ण शब्दों में और गलत लहजे का इस्तेमाल करते हुए वह स्टाफ को कुछ कहे !मगर जहां मालिक ही गलत हो वहां स्टाफ क्या करे,किन शब्दों में मालिक को समझाए !!उसके पास तो मालिक वाली भाषा या मालिक वाला संस्कार तो नहीं ना..!!(यहाँ यह जोड़ देना मैं उचित समझता हूँ कि तमाम संस्कार और शिक्षितता के बावजूद मालिक व्यवहार कु-संस्कार वाला करे तो उसे कौन सी कैटेगरी में रखा जाए ??) 
                 इसलिए मेरे भाई जिसे तुम स्टाफ को सर चढ़ाना समझते हो वो मेरे लिए मेरी मानवता है,मेरा संस्कार है ,मेरा चरित्र है और वही सही भी है,ऐसा मेरा मानना है,चाहे इसे कोई माने या ना माने !इस पत्र को पढ़कर मैं आशा करता हूँ कि शायद तुम गैर-कुशल,अशिक्षित श्रमिकों से उचित व्यवहार करना सीखो !इसके लिए सदैव यह ध्यान रखना होगा कि वह तो जो है,सो है,मगर आप तो कुशल हो ना,आप तो शिक्षित हो ना,आप तो संस्कारवान हो ना,आप तो कुशल हो ना !!तब आप अपनी गैर-समझदारी क्यों प्रदर्शित करते रहते हो,आप मालिक हो ना,तो आप मालिक ही रहो ना व्यवहार के निचले तल तक जाकर अपनी तौहीन क्यूँ करवाते हो ?स्टाफ के साथ बगैर उसकी गलतियों के भी उसके साथ गलत व्यवहार करना,स्टाफ को किसी भी बात को भर्त्सनापूर्ण शब्दों में समझाना,यह मालिकियत नहीं नहीं मालिकियत का कुसंस्कार है,जिसे अगर मगर त्याग दे दुनिया के सभी मजदूरों का अपने मालिकों के साथ सुन्दरतम रिश्ता कायम हो सकता है,बाकी ऊपर वाला तो सबका मालिक है ही.....है ना भाई !!
                  पुनश्चः,ये बातें मैं तुम्हें इसलिए लिख सका क्यूंकि मैं समझता हूँ कि तुममे पर्याप्त समझदारी है इन बातों को समझते हुए खुद को तदनुरूप ढाल लेने की,क्योंकि अपने काम में पारंगत होते हुए भी दुनियादारी में गैरव्यवहार-कुशलता बहुत बार आपको नीचा दिखाती हैं,और आप बेहतर होते हुए भी उंचाईयों को नहीं छू पाते ,क्योंकि काम में पारंगतता एक अलग बात है,और अपना आचरण एक दूसरी बात !!आप काम में पारंगत होते हुए भी आचरण में पर्याप्त मधुरता ना होने के कारण उचित मुकाम हासिल करने में अक्षम हो सकते होओ मगर काम में अपारंगत होते हुए भी सुमधुर आचरण से उन्हीं उंचाईयों को प्राप्त कर सकते हो !
                 दुनिया का सबसे बड़ा अस्त्र है मीठी बोली या मधुर आचरण !! 
             

2 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

मगर दूसरे के ज्ञान को कमतर या तुच्छ समझना यह कहाँ की शरीफी है ?

बढ़िया प्रस्तुति ||
बधाई |

NISHA MAHARANA ने कहा…

आप काम में पारंगत होते हुए भी आचरण में पर्याप्त मधुरता ना होने के कारण उचित मुकाम हासिल करने में अक्षम हो सकते होओ मगर काम में अपारंगत होते हुए भी सुमधुर आचरण से उन्हीं उंचाईयों को प्राप्त कर सकते हो !
दुनिया का सबसे बड़ा अस्त्र है मीठी बोली या मधुर आचरण !! bhut shi bat.